प्रगतिशील क्षत्रिय स्वर्णकार सभा द्वारा सर्व-स्वर्णकार युवक-युवती परिचय सम्मेलन का आयोजन

प्रगतिशील क्षत्रिय स्वर्णकार सभा द्वारा तायल फार्म्स एंड रिजोर्ट्स में आयोजित सर्व-स्वर्णकार युवक-युवती परिचय सम्मेलन के शुभारंभ

Progressive Kshatriya Swarnakar Sabha organizes All-Swarnakar Youth and Girls Introduction Conference

नई दिल्ली । परिचय सम्मेलन आज के समय में समाज की पहली आवश्यकता बनते जा रहे हैं, ऐसे परिचय सम्मेलन में वर-वधू का चयन आसान तरीके से हो जाता है। यह बात संस्थापक अशोक आनंद वर्मा ने रविवार को प्रगतिशील क्षत्रिय स्वर्णकार सभा द्वारा तायल फार्म्स एंड रिजोर्ट्स में आयोजित सर्व-स्वर्णकार युवक-युवती परिचय सम्मेलन के शुभारंभ अवसर पर कही। कार्यक्रम की अध्यक्षता राजेश वर्मा ने की जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप जस्टिस राजेन्द्र कुमार वर्मा हाइकोर्ट मध्यप्रदेश मौजूद थे।

उन्होंने कहा कि अब बदलते युग में परिस्थितियों में भी बदलाव हो रहा है और लड़के लड़कियां भी अब सुयोग्य जीवन साथी चाहते हैं, ताकि उनका जीवन उनके अनुरूप हो। इस आयोजन में ऐसे रिश्ते बनें जो आगे भी उन्हें निभा सकें। विवाह सम्मेलन एक ईश्वरीय कार्य है। वहीं श्री रणजीत सिंह ने कहा कि आज के समाज में विवाहों का विघटन हो रहा है। अगर हम अपने समाज और परिवार के आधार पर शादी करें तो विवाह के बाद विघटन नहीं होंगे।

Progressive Kshatriya Swarnakar Sabha organizes All-Swarnakar Youth and Girls Introduction Conference

विवाह सुख नहीं उत्तरदायित्व है, और हमें इस उत्तरदायित्व को निभाना चाहिए। उन्होंने कहा कि परिचय सम्मेलन में आप एक ऐसे जीवन साथी को चुनें जो सदा आपके साथ हो, और दोनों एक दूसरे को समझ सकें। विवाह के लिए सुयोग्य जीवन साथी चुनना भी सबसे बड़ी योग्यता है।

प्रमोद कुमार वर्मा ने कहा कि आज के व्यस्त समय में अभिभावकों को अपने विवाह योग्य बेटे-बेटी के रिश्ते तलाशने में कठिनाई हो रही है। परिचय सम्मेलन एक ऐसा मंच है जो दो परिवारों को आपस में मिलाता है। परिचय सम्मेलन अब हर समाज की आवश्यकता बनते जा रहे हैं। सभी समाजों ने यह परंपरा शुरू कर दी है।

हरी कुमार वर्मा ने कहा कि परिचय सम्मेलन एक सामाजिक कुंभ है और इसमें प्रत्येक समाज बंधु की भागीदारी आवश्यक है। इसका लाभ तभी है जब ज्यादा से ज्यादा प्रत्याशी मंच पर परिचय देने के लिए आएं। ताकि ज्यादा संबंध हो सकें। कार्यक्रम का शुभारंभ गणेश वंदना की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर हुआ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button