चीन ने किया दावा, कोरोना वायरस की वैक्सीन बंदरों पर प्रभावी

बीजिंग। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप थमने का नाम ही नहीं ले रहा है और इससे विश्वभर के अधिकतर देशों में अब तक 2,68,340 लोग काल का ग्रास बन चुके हैं तथा 383,5107 लोग संक्रमित हुए हैं। ऐसी स्थिति में दुनिया भर में वैक्सीन को लेकर काम तेज हो गया है। लेकिन इस समय चीन से राहत देने वाली एक खबर सामने आयी है कि चीन में बनी कोरोनावायरस की वैक्सीन बंदरों पर प्रभावी साबित हुई है। पाइकोवैक नाम की इस वैक्सीन को पेइचिंग स्थित सिनोवैक बायोटेक कंपनी ने तैयार की है। यह वैक्सीन शरीर में जाते ही प्रतिरक्षा प्रणाली को एंटीबॉडी बनाने पर जोर देती है, और एंटीबॉडी वायरस को खत्म करने लगती है।दरअसल, इस वैक्सीन पर काम करने वाले शोधकर्ताओं ने एक तरह के प्रजाति के बंदरों (रीसस मैकाक्स) को यह वैक्सीन लगायी, और फिर तीन सप्ताह बाद बंदरों को नोवल कोरोनोवायरस से ग्रसित करवाया। एक सप्ताह बाद, जिन बंदरों को भारी संख्या में वैक्सीन दी गई थी, उनके फेफड़ों में वायरस नहीं मिला, जिसका साफ अर्थ है कि यह वैक्सीन असरदार और कामयाब है। इस बीच, जिन बंदरों को पाइकोवैक नाम की यह वैक्सीन नहीं दी गई थी, वे कोरोना वायरस से ग्रसित हैं और उन्हें गंभीर निमोनिया हो गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.