माँ स्कन्दमाता की पूजा- अर्चना   

प्राचीन ऐतिहासिक झंडेवाला देवी मंदिर मे आज नवरात्र मेले के पांचवे दिन माँ के पांचवे स्वरूप माँ “स्कन्दमाता’’ का श्रृंगार व पूजा-अर्चना पूर्ण विधि-विधान के साथ की गई l यह भगवान् स्कन्द “कुमार कार्तिकिये” नाम से भी जानी जाती हैं l चतुर्भुजी माँ“स्कन्दमाता” का वाहन मयूर हैं l इसलिए इन्हें “मयूरवाहन” के नाम से भी जाना जाता हैं l माँ स्कन्दमाता की उपासना से भक्तों कीसमस्त इच्छाएँ पूर्ण हो जाती हैं l

भक्तों की मनोकामना पूरी करने वाले झंडेवाला देवी मंदिर में माँ का आशीर्वाद पाने के लिए भक्तों में उत्साह देखते ही बनता हैं l मंदिरके सेवादार आने वाले भक्तों को माँ के दर्शन सुचारु रूप से हो सके इसके लिये सदैव तत्पर रहते हैं और भक्तों का मार्ग दर्शन करते हैं lदेश में  वर्तमान हालात को देखते हुए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये हैं l उचित सामाजिक दूरी बनायें रखने के कड़े प्रबंध किये गये है l

माँ झंडेवाली के प्रति आस्था एंवम् यहाँ की सुचारु व्यवस्था की ख्याति के कारण दूर—दूर से भक्त माँ के दर्शनों के लिये आते हैं l मंदिरन्यास व प्रबंधन कमेटी सदैव आने वाले दर्शनथियों की सुविधा और संतुष्टि के लिये प्रयत्नशील रहती हैं l इस मंदिर को भारत केसर्वश्रेष्ठ मंदिरो मे गिना जाता हैं और यहाँ की व्यवस्था की भूरि–भूरि प्रशंसा की जाती हैं l प्रात: 4:00 बजे से रात्रि 12 बजे तक सारे कार्यकर्मों का सीधा प्रसारण झंडेवाला देवी मंदिर यूट्यूब चैनल पर किया गया l कल नवरात्र के छठे दिन माँ के छठे स्वरूप माँ कात्यायनी देवी जी की पूजा – अर्चना की जायेगी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: