जॉब के लिए क्रिटिकल थिंकिंग, सहयोगी दृष्टिकोण और वैश्विक नेतृत्व की आवश्यकता होगी: शिशिर जयपुरिया

औद्योगिक क्रांति 4.0 के महत्वपूर्ण मुकाम पर हैं एमबीए छात्र

कमलेश पांडेय/ओपन सर्च ब्यूरो, गाजियाबाद। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट गाज़ियाबाद के ओरियंटेशन प्रोग्राम में उद्योग जगत के दिग्गजों की मौजूदगी रही, जिससे छात्रों को बहुत कुछ सीखने को मिला। जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, गाजियाबाद ने दो वर्षीय एमबीए और एमबीए (बिजनेस एनालिटिक्स) प्रोग्राम में नए एमबीए 2021-23 बैच का स्वागत करते हुए शुक्रवार, को ओरियटेशन प्रोग्राम शुभारंभ 2021 का आयोजन किया।
प्रबंधन संस्थान के परिसर में इस आयोजन के दौरान 2021-23 बैच के 240 से अधिक विद्यार्थियों का ओरियंटेशन और इंडक्शन किया गया। इसमें सभी कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन किया गया। इस अवसर पर उद्योग जगत के कई दिग्गजों ने अपने अनुभव साझा किए और विद्यार्थियों का मार्गदर्शन भी किया। इनमें खास तौर से प्रद्युम्न पांडे, सीएचआरओ, मदर डेयरी; देबरघा देव, एचआर प्रमुख, नॉर्थ जोन, डाबर इंडिया; उन्नी कृष्णन, ग्लोबल मार्केटिंग हेड, कैपजेमिनी इन्वेंट; अमित अरोड़ा, कॉरपोरेट कम्युनिकेशन एवं पीआर प्रमुख, आरईए इंडिया के नाम उल्लेखनीय हैं।
नए बैच के विद्यार्थियों का स्वागत करते हुए सेठ आनंदराम जयपुरिया ग्रुप ऑफ एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस के चेयरमैन शिशिर जयपुरिया ने कहा, “आप औद्योगिक क्रांति 4.0 के महत्वपूर्ण मुकाम पर एमबीए प्रोग्राम में शामिल हुए हैं। आने वाले समय में जॉब के लिए क्रिटिकल थिंकिंग, रचनात्मकता, सेवा भाव, संवाद कौशल, सहयोगी दृष्टिकोण और वैश्विक नेतृत्व की आवश्यकता होगी। इसलिए संस्थान आपको इनमें दक्ष होने में मदद करेगा।”
वहीं, उद्योग जगत के दिग्गजों ने उभरते प्रबंधकों के सामने आगे की राह रखी। प्रद्युम्न पांडे ने विद्यार्थियों से नियमित पढ़ने की आदत डालने का आग्रह करते हुए यह मशहूर वाक्य कहा, “लीडर्स आर रीडर्स एण्ड रीडर्स आर लीडर्स।” जबकि, देबरघा देव ने बेहतर अस्तित्व के लिए कौशल सीखने और कार्य जीवन संतुलन रखने की अपील की, ताकि सफल जीवन का आनंद ले पाएं। वहीं, उन्नी कृष्णन ने विद्यार्थियों से पहले दिन से ही तत्परता के संग योजना बनाने और जमीनी ज्ञान प्राप्त करने का महत्व समझने को प्रेरित किया। अमित अरोड़ा ने समग्र विकास हेतु खुद को समय देने के बारे में कुछ मूल्यवान सुझाव दिए।
सेठ आनंदराम जयपुरिया ग्रुप ऑफ एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस के वरिष्ठ सलाहकार विनोद मल्होत्रा ने जोर देकर कहा कि एक उत्कृष्ट प्रबंधक के साथ-साथ एक अच्छा इंसान होना अत्यधिक महत्वपूर्ण है। संस्थान के निदेशक प्रो. (डॉ) देविंदर नारंग ने बताया कि संस्थान अब तक विद्यार्थियों को किस तरह सुविधाएं देता रहा है और वर्तमान बैच के विद्यार्थियों का उज्ज्वल भविष्य बनाने के लिए कैसे उनका मार्गदर्शन करेगा।
इस अवसर पर विद्यार्थियों को जयपुरिया अकादमिक उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एमबीए बैच 2017-19 2018-20 और 2019-21 के टॉपर्स को ये पुरस्कार दिए गए। प्रथम रैंक प्राप्त विजेता को 1 लाख रु., द्वितीय रैंक प्राप्त विजेता को 51,000 रुपए और तृतीय रैंक प्राप्त विजेता को 31,000 रु. प्रदान किए गए।
दोपहर के भोजन के उपरांत जयपुरिया प्रबंधन संस्थान, इंदिरापुरम, गाजियाबाद के विद्यार्थियों ने नए बैच के एमबीए विद्यार्थियों के साथ बात की। इसके बाद मो स्पीकर एवं ट्रेन मी अकादमी, भारत की संस्थापक निदेशक सुश्री अंजलि दत्त उत्साहवर्धक और परिचय सत्र का संचालन किया।
एक अच्छे करियर के लिए एमबीए शुरू करने वाले इन विद्यार्थियों के लिए जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट का ओरियंटेशन प्रोग्राम बहुत लाभदायक था। यह संस्थान एनएएसी ए मान्यता प्राप्त है और दिल्ली-एनसीआर के प्रमुख प्रबंधन स्कूलों में इसका नाम है।
फोटोकैप्शन:- ओरियटेशन प्रोग्राम शुभारंभ 2021 के मौके पर मंचस्थ आनंदराम जयपुरिया ग्रुप ऑफ एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस के चेयरमैन शिशिर जयपुरिया, प्रद्युम्न पांडे, सीएचआरओ, मदर डेयरी; देबरघा देव, एचआर प्रमुख, नॉर्थ जोन, डाबर इंडिया; उन्नी कृष्णन, ग्लोबल मार्केटिंग हेड, कैपजेमिनी इन्वेंट; अमित अरोड़ा, कॉरपोरेट कम्युनिकेशन एवं पीआर प्रमुख, आरईए इंडिया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: