बीजेपी का वोट बैंक भी मजबूत करेंगे उसके चुनाव प्रभारी

अजय कुमार,लखनऊ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में चुनाव किसी भी स्तर का हो, उसका सीधा प्रभाव केन्द्र की राजनीति पर पड़ता है। यूपी से निकला कोई भी सियासी ‘मैसेज’ दूर तक जाता है। इसी लिए भारतीय जनता पार्टी आलाकमान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव की तैयारी ‘युद्धस्तर’ पर शुरू कर दी है। बीजेपी प्रदेश में चुनाव प्रचार के लिए अपने स्टार प्रचारकों की लिस्ट तैयार करने में लगी है तो नेताओं का कार्यक्रम भी तय किया जा रहा है। किस नेता की कहां सभा रखी जाएगी,इसके लिए क्षेत्रीय और जातीय गणित का भी ख्याल रखा जा रहा है। चुनाव जीतने के लिए बीजेपी आलाकमान द्वारा कई स्तर पर रणनीति बनाई जा रही हैं। जरूरत के हिसाब से पार्टी अपना प्लान ए0बी0सी बदलती रहेगी।  पार्टी  आलाकमान ने यूपी में चुनाव प्रभारियों की जो बड़ी फौज तैयार की है। उसमें  कई दिग्गज नेताओं के नाम कई राज्यों में बीजेपी की सरकार बनवाने का रिकार्ड दर्ज है। इतना ही बीजेपी के नवनियुक्त प्रभारियों की जो लिस्ट सामने आई है,उसमें क सभी नेता मोदी की गुड लिस्ट में भी शामिल हैं। बीजेपी की शीर्ष इकाई ने चुनाव प्रभारी और सह-प्रभारी बनाते समय जातीय समीकरण का भी पूरा ख्याल रखा है।
भाजपा सूत्रों का कहना है कि अब चुनाव लड़ना और जितना इतना आसान नहीं रह गया है। पूरा चुनाव हाईटेक हो गया है। इसी लिए शीर्ष नेतृत्व को लगता है कि चुनाव जीतने के कई स्तरों पर रणनीति बनाना जरूरी है। साथ ही साथ एक ऐसी समिति भी रहेगी, जो किसी प्रोजेक्ट, किसी राजनीतिक प्रतिक्रिया आदि पर भी तत्काल निर्णय लेने में सक्षम होगी। प्रधान और ठाकुर चुनाव प्रभार देख ही रहे है। भूपेंद्र का भी चुनावी अनुभव है। नकवी लंबे समय से भाजपा का चुनावी कामकाज देखते रहे है। राजीव चंद्रशेखर राजनीतिज्ञ होने के साथ चुनावी सर्वेक्षण जैसे कामकाज से भी जुड़े हे है।
भारतीय जनता पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में भी वैसा ही प्रचंड बहुमत हासिल करना चाहती है,जैसा उसने 2017 में प्राप्त किया था। इस बार मोदी के साथ मुख्यमंत्री योगी के कंधों पर भी बीजेपी की सत्ता में वापसी की जिम्मेदारी रहेगी। इसके लिए बीजेपी द्वारा जातीय और क्षेत्रीय समीकरणों के आधार पर बिसात बिछाना तो कई दिनों से चल रहा है, लेकिन अब पूरी तरह चुनावी मोड में आ चुके पार्टी हाईकमान ने चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान के साथ सात सह-प्रभारी और छह क्षेत्रीय संगठन प्रभारियों को मोर्चे पर खड़ा कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भरोसेमंद कहे जाने वाले केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को यहां का चुनाव प्रभारी काफी सोच समझकर बनाया गया है वह अच्छे रणनीतिकार हैं, जबकि केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर का आकर्षण युवाओं में है।राजस्थान के अनुभवी नेता और केंद्रीय राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल, राज्यसभा सदस्य विवेक ठाकुर और हरियाणा के पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु को सह-प्रभारी बनाया जाना और सह-प्रभारी के रूप में ही तीन महिलाओं को भी लगाकर पार्टी ने स्पष्ट संकेत दे दिया है कि आधी आबादी के लिए पूरी ताकत लगाई जाएगी। जिन महिला नेत्रियों के कंधों पर चुनाव की जिम्मेदारी डाली गई है,उसमें केंद्रीय कृषि कल्याण राज्यमंत्री शोभा करंदलाजे, केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री अन्नपूर्णा देवी और राज्यसभा सदस्य सरोज पांडेय संभालेंगी। इनमें सरोज पांडेय भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुकी हैं।
बात इन प्रभारियों और सह-प्रभारियों के सहारे उत्तर प्रदेश में सामाजिक समीकरण साधने की बीजेपी आलाकमान कोशिशोे की कि जाए तो भाजपा ने 2022 के लिए यूपी में जो नए चुनावी रणनीतिकार उतारे हैं। उनके सहारे  बीजेपी जातीय गणित तो बैठाना चाह ही रही है इसके साथ ही, धमेंद्र प्रधान से लेकर अनुराग ठाकुर जैसे युवा चेहरों को यूपी की सियासी प्रयोगशाला  में अजमाकर भाजपा नेताओं की नई पीढ़ी तैयार करने की कवायद भी आगे बढ़ा रही है। क्यांेकि, यूपी की सियासी प्रयोगशाला में खरे उतरने वाले चेहरे केंद्रीय राजनीति में भी चमकते रहे हैं।
प्रभारी और सह-प्रभारियों के सहारे यूपी में सामाजिक समीकरण साधने की बीजेपी आलाकमान की कोशिशों पर नजर दौड़ाई जाए तो पेट्रोलियम मंत्री से शिक्षा मंत्री की अहम जिम्मेदारी पाने वाले धमेंद्र प्रधान को भाजपा ने यूपी की चुनावी रणनीति बनाने की जिम्मेदारी दी है। कुर्मी बिरादरी से आने वाले प्रधान यूपी में भाजपा के लिए पिछड़ों वर्ग के वोटरों में घुसपैठ बनाने के भी काम आएंगे। संसद के मानसून सत्र में 127 वे संविधान संशोधन विधेयक पर राज्यसभा में चर्चा के दौरान प्रधान ने खुद ही इसका भूमिका लिख दी थी। सपा के महासचिव रामगोपाल यादव ने सदन में आरोप लगाया कि भाजपा यादव, कुर्मी, गुर्जरों को आरक्षण से बाहर करने की साजिश रच रही है। तब जवाब में धमेंद्र प्रधान ने कहा था, ‘ सपा यूपी के आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर विभिन्न जातियों के बीच डर पैदा करने की राजनीति कर रही है। चाहे यादव हो गुर्जर हमने किस जाति का आरक्षण खत्म किया? मैं खुद कुर्मी हूं। आप लोगों ने जो गलती की, उसे सुधारने का काम किया है। यूपी के चुनावी मंचों पर आगे भी प्रधान विपक्ष के आरोपों का जवाब देने के काम आएंगे।
पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन के कारण बीजेपी के संभावित नुकसान से लेकर दलितों तक सब पर बीजेपी ने नजरें जमा रखी हैं। केंद्रीय नेतृत्व ने यूपी में किसान आंदोलन व जाटों की भाजपा से नाराजगी की चर्चा के बीच हरियाणा के कुमार अभिमन्यु को आगे किया हैं। अभिमन्यु की वेस्ट यूपी से नजदीकियां भाजपा के जिए जमीन बेहतर बनाने के काम आएंगी। राजस्थान के अर्जुनराम मेघवाल भी दलित समुदाय से है, वेस्ट यूपी के दलित बहुल जिलों की सीमा राजस्थान से जुड़ी है। बिहार के बड़े भूमिहार नेता सीपी ठाकुर के बेटे विवेक ठाकुर भी यूपी में लगाए गए हैं जो झारखंड की अन्नपूर्णा देवी यूपी में भाजपा के ‘मिशन यादव‘ को साधने के काम आएंगी। अनुराग ठाकुर राजपूत बिरादरी से आने के साथ ही युवा चेहरे भी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: