‘जलजमाव की समस्या को खत्म करने के लिए कॉर्डिनेशन के साथ काम करने की ज़रूरत’

*जलजमाव की जगह को चिन्हित कर करना होगा माइक्रो लेवल पर काम, तभी मिलेगी इस समस्या से राहत- उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया *दिल्ली को जलजमाव की समस्या से निजात देने के लिए  सभी एजेंसी के अधिकारियों को मिलाकर होगा एक्सपर्ट कमिटी के गठन, बनेगा शार्ट टर्म व लांग टर्म सॉल्यूशन प्लान

 नई दिल्ली। दिल्ली में जल जमाव की समस्या को लेकर शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक की गई। बैठक में उपराज्यपाल श्री  अनिल बैजल, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री  श्री मनीष सिसोदिया, पीडब्लूडी मंत्री श्री सतेंद्र जैन, दिल्ली के मुख्य सचिव श्री  विजय कुमार देव, तीनों एमसीडी के कमिश्नर सहित अन्य संबंधित अधिकारी शामिल रहे। दिल्ली में जलजमाव की समस्या से निपटने के लिए उपमुख्यमंत्री ने सभी संबंधित विभागों को कॉर्डिनेशन के साथ काम करने की अपील की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस समस्या से निजात पाने के लिए दिल्ली में जलजमाव की जगहों को चिन्हित किया जाए और उसपर माइक्रो लेवल पर काम किया जाए। इसके बाद ही इस समस्या से छुटकारा मिल पाएगा। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस समस्या को जल्द से जल्द खत्म करने के लिए शार्ट टर्म और लांग टर्म प्लानिंग बनाई जाए।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में इस बार पिछले कई सालों से ज़्यादा बारिश हुई है और कई जगह जल जमाव का सामना करना पड़ा है। इस समस्या को खत्म करने के लिए ये बेहद ज़रूरी है कि इससे संबंधित सभी एजेंसीज साथ मिलकर कॉर्डिनेशन के साथ इस समस्या से निपटने के लिए शार्ट टर्म और लांग टर्म प्लान बनाए और उसे एक्जिक्यूट करे।

बैठक में उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि जरूरत इस बात की है कि जल जमाव की जगहों को चिन्हित कर उस पर माइक्रो लेवल पर काम हो। जिम्मेदार प्राइमरी एजेंसी की जवाबदेही तय हो और बाकी एजेंसी उसके साथ समन्वय बनाए।

उपमुख्यमंत्री ने दिल्ली के  दो प्रमुख स्थानों आईटीओ और एनएच-24 के पास होने  वाले जल जमाव की समस्या को रेखांकित करते हुए अधिकारियों को जल्द से जल्द इन दोनों जगहों पर जलजमाव की समस्या को दूर करने के निर्देश दिए। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इस साल जब भी बारिश हुई तब आईटीओ के पास और एनएच 24 के स्लिप रोड पर तालाब बन गया। उन्होंने कहा कि इस समस्या का समाधान तभी होगा जब एनएचएआई , एमसीडी , पीडब्ल्यूडी सहित अन्य सभी एजेंसी मिलकर काम करें।

उन्होंने अधिकारियों को सभी एजेंसी के अधिकारियों को मिलाकर एक एक्सपर्ट कमिटी गठित करने का निर्देश दिया। ये कमेटी पूरी हॉलिस्टिक एप्रोच से जल जमाव की समस्या को देखेगी और उसके समाधान के लिए शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म प्लान बनाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: