कोरोना के बगैर लक्षण वाले 186 मरीजों की नहीं मिली हिस्ट्री,

नई दिल्ली। राजधानी में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण के मामले दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार की न केवल मुश्किलें बढ़ा रहे हैं, बल्कि उसे गहरी चिंता में भी डाल दिया है। दरअसल, दिल्ली में 50 से अधिक डॉक्टरों के बाद फूड इंस्पेक्टर, राशन दुकानदारों, सब्जी आढ़ती और सफाई कर्मचारियों में भी कोरोना संक्रमण के मामले कुछ और कहानी बयां कर रहे हैं। ताजा मामले में आजादपुर मार्केट में आढ़ती की कोरोना संक्रमण से मौत ने कुछ सवाल खड़े किए हैं। जिस तरह से दिल्ली में रोजाना कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं, उससे डर है कि कहीं यह सामुदायिक में न तब्लील हो जाए। दिल्ली में 186 मरीज ऐसे में जिनके बारे में यह नहीं पता चल रहा है कि आखिर ये कोरोना वायरस से संक्रमित कैसे हुए? दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक, कोरोना के बगैर लक्षण वाले 186 मरीजों की भी हिस्ट्री नहीं मिली है हिस्ट्री। ऐसे मरीज संकेत दे रहे हैं कि दिल्ली में हालात लगातार खराब होते जा रहे हैं। खाद्य आपूर्ति विभाग के मॉडल टाउन सर्कल के तहत रूपनगर इलाके में स्थित सरकारी राशन दुकान में कार्यरत बुजुर्ग सहायक के कोरोना से संक्रमित होने का मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार उक्त सहायक कमला नगर इलाके में रहते हैं। बताया जाता है कि राशन दुकान का लाइसेंस उनके भतीजे के नाम से है। ऐसे में वह दुकान में बतौर सहायक काम करते हैं और कार्ड धारकों को दिए जाने वाले राशन को तौलने आदि का काम करते हैं। हालांकि उम्र अधिक हो जाने के कारण वह इन दिनों लिखा पढ़ी का काम ही ज्यादातर करते हैं। लेकिन कुछ दिनों पूर्व उनकी तबियत खराब होने पर उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां कोरोना जांच के लिए सैंपल लिया गया जिसकी रिपोर्ट रविवार को पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उनके परिवार के लोगों को भी क्वारंटाइन कर दिया गया। इस राशन की दुकान से 16 सौ से अधिक कार्ड धारकों को राशन बांटा जाता है और कोरोना को लेकर हाल में ही ऐसे लोगों को राशन वितरित भी कर दिया गया है। ऐसे में प्रशासन उन लोगों की सूची तैयार उन्हें क्वारंटाइन करने के साथ उनकी जांच कराने की तैयारियों में जुट गया है। राशन दुकान से जिन लोगों को राशन दिया गया है, उनमें ज्यादातर लोग मॉडल टाउन इलाके के राजपुर गुड मंडी के लोग ही हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.