खिलाडिय़ों और कोचों की चल रही है ऑनलाइन क्लास

वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना वायरस कोविड-19 के कारण देश में सभी खेल गतिविधियां ठप्प पड़ी हुई हैं और ऐसे समय में खिलाडिय़ों तथा कोचों को ऑनलाइन क्लास केजरिये सक्रिय रखा जा रहा है। देश में विभिन्न खेल संघों, भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) और खेल मंत्रालय ने आपसी तालमेल के साथ ऑनलाइन क्लास का सिलसिला शुरू किया है और इन क्लास से खिलाडिय़ों और कोचों को जोड़ा गया है। यह सिलसिला लगातार बना हुआ है जिसे लॉकडाउन के बीच खिलाडिय़ों, कोचों और खेलों से जुड़े लोगों की सक्रियता बनी हुई है। साई ने राष्ट्रीय खेल महासंघों के साथ मिलकर 16 खेलों के कोचों के लिए 21 दिनों का ऑनलाइन वर्कशॉप आयोजित किया है। केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने ट््वीट कर इस वर्कशॉप के आयोजन की जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था कि जिस वक्त सारा देश कोरोना के खिलाफ एकजुट होकर लड़ाई लड़ रहा है ऐसे में साई राष्ट्रीय खेल महासंघों के साथ मिलकर 16 खेलों के कोचों के लिए 21 दिनों के ऑनलाइन वर्कशॉप आयोजित कर रहा है। कोचों को सशक्त बनाने के लिए यह अपनी तरह का पहला और सबसे बड़ा ऑनलाइन वर्कशॉप है। भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने मुक्केबाजों की मानसिक फिटनेस के लिए विशेषज्ञों के साथ फिटनेस सत्र आयोजित किया है। इस सत्र में पूरे भारत से 374 मुक्केबाज और कोच शामिल हुए। फोर्टिस राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के निदेशक डॉ समीर पारिख और खेल मनोविज्ञानी दिव्या जैन ने इस सत्र का संचालन किया और मुक्केबाजों से मैच के दिन की ङ्क्षचता, कोच की अनुपस्थिति में ट्रेङ्क्षनग करना तथा मुश्किल दौर में खुद को संतुलित रखने जैसे मुद्दों पर चर्चा की। विशेषज्ञों ने सकारात्मक रहने के बारे में भी बात की। बीएफआई की इस पहल पर डॉ पारिख ने कहा, ”यह काफी महत्वपूर्ण है कि बीएफआई ऐसे समय मानसिक स्थिरता पर जोर दे रहा है। यह काफी अच्छी पहल है जिसे लगातार हर स्तर पर कराया जाना चाहिए।सामाजिक दूरी के दौरान यह जरुरी है कि मुक्केबाज अपने लक्ष्य से पीछे नहीं हटें। दिनचर्या का पालन होना चाहिए और सोने के साथ ही ट्रेङ्क्षनग, खाना और मेडिटेशन भी बेहद जरुरी है। बीएफआई की ई-पाठशाला में कोचों के दिशानिर्देशों का पालन करने से भी आप खुद को फिट और सकारात्मक रख सकते हैं।ÓÓ बीएफआई ने ओलंपिक के लिए चुने गए मुक्केबाजों सहित सभी आयु वर्ग के मुक्केबाजों के लिए ई-पाठशाला शुरु की है। इसमें शारीरिक कोङ्क्षचग सत्र के साथ आज मानसिक फिटनेस सत्र का भी आयोजन किया गया। भारत के रिकॉर्ड नौ मुक्केबाज टोक्यो ओलम्पिक के लिए कोटा हासिल कर चुके हैं। हॉकी इंडिया ने साई के साथ मिलकर कोचों के लिए 21 दिनों का सत्र आयोजित किया है। इस सत्र का आयोजन साई के ओपन ऑनलाइन कोर्स के तहत किया गया है जिसमें कोचों के लिए वर्कशॉप आयोजित की गयी है। इस ऑनलाइन सत्र की शुरुआत साई ने 16 अप्रैल से हुई थी। इन ऑनलाइन सत्रों का उद्देश्य वीडियो कॉन्फ्रेंङ्क्षसग के माध्यम से देश भर के हॉकी कोचों को उच्च स्तरीय ट्रेङ्क्षनग प्रदान करना है। इन सत्रों में दो कोङ्क्षचग सत्र में आयोजन होगा जिसमें मूल स्तर और मध्यम स्तर की कोङ्क्षचग दी जाएगी। यह कोङ्क्षचग सत्र हॉकी इंडिया के राष्ट्रीय टीम के विदेशी कोच, सलाहकार और निदेशक द्वारा संचालित किया जाएगा। मूल स्तर का कोङ्क्षचग सत्र भारतीय महिला जूनियर टीम के कोच एरिक वोनिक द्वारा संचालित किया जाएगा। यह सत्र सोमवार से शुक्रवार सुबह नौ से 10 बजे तक आयोजित होगा। मध्यम स्तर की कोङ्क्षचग का संचालन भारतीय पुरुष टीम के कोच ग्राहम रीड, महिला टीम की कोच शुअर्ड मरिने, पुरुष टीम के विश्लेषणात्मक कोच क्रिस सिरिएलो तथा अन्य लोग मिलकर करेंगे। इस सत्र का आयोजन सोमवार से शुक्रवार अपराह्न ढाई से साढ़े तीन बजे तक किया जाएगा। भारतीय बैडङ्क्षमटन संघ (बाई) ने कोरोना के संकट के दौरान अपने घर में रह रहे कोचों के लिए सोमवार को ऑनलाइन बैडङ्क्षमटन कोङ्क्षचग कार्यक्रम का अपना पहला सत्र आयोजित किया। इस सत्र को काफी पसंद किया गया और इसमें देश भर से 800 कोचों ने हिस्सा लिया। यह ऑनलाइन कार्यक्रम सप्ताह में पांच दिन आयोजित होगा और तीन सप्ताह तक चलेगा। पूरे कोर्स को 39 विषयों में बांटा गया है। इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद के नेतृत्व में देश के शीर्ष कोच ट्रेङ्क्षनग देंगे। पहले सत्र को गोपीचंद और विदेशी कोचों अगस द्वी सांतोसो और नमरीह सुरोतो ने आयोजित किया। कार्यक्रम आठ मई तक जारी रहेगा। कुश्ती में •ाूम जैसे वीडियो कॉङ्क्षलग एप के माध्यम से भारतीय खेल प्राधिकरण, एनआईएस पटियाला में कर्नल राज ङ्क्षसह बिश्नोई ने संस्थान के प्रमुख के प्रयासों के साथ एक निर्धारित •ाूम वीडियो मीङ्क्षटग के लिए देश में कुश्ती से जुड़े लोगों को आमंत्रित किया।16 अप्रैल से इसकी शुरुआत हुई है। इसमें प्रतिदिन सुबह 10 से 11 बजे तक •ाूम जैसे वीडियो कॉङ्क्षलग एप के माध्यम से संचालित होने वाले इस प्रोग्राम में देश के 300 से भी ज्यादा कुश्ती कोच शामिल हो रहे हैं। प्रशिक्षण का जिम्मा देश के प्रसिद्ध कुश्ती गुरु और भारतीय खेल प्राधिकरण के प्रमुख कुश्ती कोच ओपी यादव को सौंपा है। कुश्ती की इस मीङ्क्षटग में देश के अलग-अलग क्षेत्रों से पहलवान और प्रशिक्षक बड़ी संख्या में शामिल हो रहे है। टेक डाउन, मोमेंट स्ट्रेक्चर, लोवर स्ट्रेक्चर, टाइम स्ट्रेक्चर के साथ ही रिफ्लेक्स तकनीक से संबन्धित जानकारियों के साथ ही ट्रेङ्क्षनग, टीङ्क्षचग, प्रेक्टिस और कोङ्क्षचग के अंतर को स्पष्ट किया जा रहा है। इस बीच सरकार के फिट इंडिया अभियान के साथ मिलकर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) लाइव फिटनेस सत्र शुरू किया है ताकि बच्चों के स्वास्थ्य को बेहतर किया जा सके। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल ‘निशंकÓ ने इस अनूठी पहल पर कहा, ”जब से फिट इंडिया अभियान शुरू हुआ है तब से सीबीएसई ने इसका समर्थन किया है। सीबीएसई के 13868 विद्यालय विभिन्न फिट इंडिया कार्यक्रमों में हिस्सा ले चुके हैं और 11682 विद्यालयों को फिट इंडिया फ्लैग भी मिल चुका है। मुझे पूरा विश्वास है कि देश भर के छात्र इस लॉकडाउन के समय में इस अनोखी पहल के साथ जुड़कर न सिर्फ अपना समय अच्छी जगह व्यतीत करेंगे बल्कि अपने जीवन में फिटनेस और स्वास्थ्य को समाहित भी करेंगे। ÓÓ इन लाइव सत्रों में बच्चों की फिटनेस के सभी पहलुओं को शामिल किया जायेगा जिसमें रोज की कसरत से लेकर योग तक और पोषण से लेकर भावनात्मक विकास तक सब कुछ होगा। फिटनेस विशेषज्ञ आलिया इमरान, पोषणविद् पूजा मखीजा, भावनात्मक विकास विशेषज्ञ डॉ जीतेन्द्र नागपाल, योग विशेषज्ञ हीना भिमानी और अन्य विशेषज्ञ इन लाइव सत्रों में हिस्सा लेंगे और बच्चों को सब बतायेंगे। इन सत्रों का सीधा प्रसारण सीबीएसई के जीक्यूआईआई के सोशल मीडिया हैंडल पर और शिल्पा शेट्टी एप पर होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.